cheap jerseys| wholesale nfl jerseys| cheap nfl jerseys| nfl jerseys cheap| cheap jerseys china| Jacksonville Jaguars Jerseys - Show Your Colors Today| Super Bowl Football Celebration Decorating Ideas | Why Excellent Collect Hockey Jerseys| Some A Few While Buying Soccer Jerseys| All All About The Baseball Jersey
Tuesday , 26 September 2017
Breaking News

नहीं रहे भाजपा के कद्दावर जाट नेता सांवर लाल जाट

imagesजयपुर, (नि.स.)। भाजपा के अजमेर से सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री सांवर लाल जाट का बुधवार को दिल्ली में निधन हो गया। वे पिछले कुछ वक्त से बीमार चल रहे थे। गत माह भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की जयपुर यात्रा के दौरान एक मीटिंग के दौरान वे बेहोश हो गए थे। उनको दिल का दौरा पड़ा था। सांवर लाल जाट 62 साल के थे। उनके निधन से सभी ओर शोक की लहर छा गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सीएम वसुंधरा राजे सहित राजनीतिक क्षेत्र की सभी हस्तियों ने सांवर लाल जाट के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया।

गौरतलब है कि भाजपा प्रदेश कार्यालय में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की मीटिंग के दौरान किसानों के बड़े जाट नेता के रूप में मशहूर सांवरलाल जाट को दिल का दौरा पडऩे के बाद बेहोशी की हालत में जयपुर के एसएमएस में भर्ती करवाया गया था, लेकिन हालत में सुधार ना होने पर उनको दिल्ली एम्स में शिफ्ट किया गया परन्तु उनकी हालत में कोई सुधार नहीं था। वे मोदी सरकार में जल संसाधन राज्य मंत्री रह चुके हैं।
दिल्ली एम्स से उनकी देह जयपुर भाजपा मुख्यालय में लायी गई है,जहां भाजपा के प्रदेश नेता,राज्य सरकार के मंत्री और भाजपा कार्यकर्ता उन्हें श्रद्धाजंलि दे रहे हैं
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी ने सांवरलाल जाट के निधन को अपूरणीय क्षति बताया।
जाट का जन्म 1 जनवरी 1955 को राजस्थान में अजमेर जिले के गोपालपुरा नामक गांव में हुआ और 9 नवम्बर 2014 से 5 जुलाई 2016 तक वे केन्द्र में जल संसाधन मंत्री रहे,वर्तमान में उनके निधन से अजमेर लोकसभा की सीट खाली हो गई। वाणिज्य में स्नातक जाट राजस्थान विश्वविद्यालय में शिक्षक भी रह चुके हैं और अजमेर की भिनाय से तीन बार विधायक रहते हुए राजस्थान में भाजपा सरकार के दौरान 1993,2003 और 2013 में केबीनेट मंत्री रहे हैं। लोकसभा चुनाव उन्होंने वर्तमान में प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलेट को हरा कर जीता था। जाट किसान आयोग के अध्यक्ष रहे और मंत्रीमंडल विस्तार के दौरान मोदी ने उन्हे कार्यमुक्त कर दिया था।

About editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*