authentic sports jerseys cheap
cheap authentic stitched nfl jerseys
Thursday , 3 September 2020 [prisna-bing-website-translator]
Breaking News

यह समय बयान बाजी का नही, आपदा को पहचानकर जनसेवा करने का है – डॉ. रघु शर्मा

जयपुर। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कोरोना को लेकर पूरा देश एकजुट होकर इस महामारी के खिलाफ लड़ रहा हैं, वहीं राजस्थान में भाजपा के कुछ नेता सहयोग करने के बजाए पोलराइजेशन की राजनीति करने पर उतारू हैं। ऐसे वक्त में ऐसी राजनीति बेहद अफसोसजनक और शर्मनाक है।

श्री शर्मा ने कहा कि उपनेता प्रतिपक्ष श्री राजेन्द्र राठौड़ ने यह कहकर कि राज्य में 6 करोड़ लोगों की स्क्रीनिंग के आंकडे ही झूठे हैं, तमाम चिकित्सा और स्वास्थ्यकर्मियों के मनोबल को तोड़ने और उनकी मजाक बनाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि अपनी जान जोखिम में डालकर स्वास्थ्यकर्मियों ने प्रदेश भर में 6 करोड़ से ज्यादा लोगों की स्क्रीनिंग करने का काम किया है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सरकार ने 1 लाख से ज्यादा क्वारेंटाइन बैड की व्यवस्था संदिग्धों और संक्रमितों के लिए की है। सरकार घरों से भी अच्छी सुविधाएं क्वारेंटाइन में उपलब्ध करवा रही है। उन्होंने कहा कि उपनेता प्रतिपक्ष कभी भी रामगंज में आकर यहां काम कर रही चिकित्सा, प्रशासन और पुलिस की टीमों को देख सकते हैं।

उनका यह बयान कि विपक्षी दलों को बुलाया नहीं गया बेहद हास्यापद है। कोविड की राज्य में शुरुआत के वक्त ही मुख्यंमत्री ने 3 बार विपक्षी दलों को बुलाया था। नेता प्रतिपक्ष श्री गुलाब कटारिया, भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष श्री सतीश पूनियां, पूर्व चिकित्सा मंत्री श्री कालीचरण सराफ बैठक में उपस्थित रहे। उपनेता प्रतिपक्ष श्री राजेन्द्र राठौड़ भी बैठक में आमंत्रित थे लेकिन शायद वे किसी पॉलीटिकल मिशन में दिल्ली व्यस्त थे। मुख्यमंत्री ने सभी विधायकों और अधिकारियों के साथ बैठकर बातचीत की थी।

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि आज के दौर में सरकार को यह उम्मीद नहीं थी कि विपक्ष के जिम्मेदार नेता आमजन की मदद करने की बजाए औछी राजनीति करने लगेंगे। उन्होंने कहा कि उपनेता प्रतिपक्ष को नेता प्रतिपक्ष श्री गुलाब कटारिया से कुछ सीखना चाहिए। श्री कटारिया का कोविड को लेकर कभी हल्का बयान नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि आपदा की घड़ी में अनर्गल बयानों की झड़ी रोकिए। आपके बयानों में राजनीति की गंदी बू आ रही है। उन्होंने कहा कि बयानों को जवाब में हम भी राजनीतिक बयान दे सकते हैं, सवाल हम भी कर सकते हैं लेकिन यह बयानबाजी का समय नहीं है। उन्होंने कहा कि आपके सार्थक सुझावों का हमेशा हम स्वागत करते हैं। हम उन पर अमल करने में भी नहीं सकुचाएंगे।

About editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*