authentic sports jerseys cheap
cheap authentic stitched nfl jerseys
Tuesday , 22 September 2020 [prisna-bing-website-translator]
Breaking News

गहलोत सरकार पर्यटन उद्योग को फिर से लाएगी पटरी पर, 20 साल बाद आएगी नई Tourism Policy | jaipur – News in Hindi

गहलोत सरकार पर्यटन उद्योग को फिर से लाएगी पटरी पर, 20 साल बाद आएगी नई Tourism Policy

राजस्थान सरकार की नई पर्यटन नीति से टूरिज्म को मिलेगा बढ़ावा (फाइल तस्वीर)

सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान में करीब 20 साल बाद लाई जा रही इस पर्यटन नीति से कोरोना वायरस संक्रमण महामारी (Coronavirus Pandemic) के कारण संकट का सामना कर रहे पर्यटन उद्योग को फिर से पटरी पर लाने में भी मदद मिलेगी.

जयपुर. वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) के चलते सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले उद्योगों में से एक पर्यटन उद्योग (Tourism industry) भी है. ऐसे में राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) राज्य में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए जल्द ही नयी पर्यटन नीति लाएगी.

पर्यटन को गति देने के लिए मांगे सुझाव 
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को कहा कि राजस्थान पर्यटन का महत्वपूर्ण केन्द्र है जिससे लाखों लोगों की आजीविका जुड़ी हुई है. इस उद्योग को फिर से पटरी पर लाने के लिए जल्दी ही नई नीति (New Tourism Policy) लाई जा रही है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने आज राज्य के पर्यटन विभाग (Tourism department of Rajasthan) की समीक्षा बैठक की. इस दौरान उन्होंने ऐलान किया कि राज्य में पर्यटन गतिविधियों को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार जल्द ही नई पर्यटन नीति लाएगी. उन्होंने कहा कि राजस्थान में करीब 20 साल बाद लाई जा रही इस पर्यटन नीति से कोरोना वायरस संक्रमण महामारी के कारण संकट का सामना कर रहे पर्यटन उद्योग को फिर से पटरी पर लाने में भी मदद मिलेगी. समीक्षा बैठक के दौरान अशोक गहलोत ने पर्यटन विभाग के जिला स्तरीय अधिकारियों से भी संवाद किया और पर्यटन को गति देने के लिए उनके सुझाव भी मांगे.

ये भी पढ़ें- सीएम गहलोत का ऐलान, असंगठित क्षेत्र के लाखों कामगारों को राजस्थान सरकार देगी सामाजिक सुरक्षा

मेलों की नए सिरे से ब्रांडिंग
पर्यटकों को खासा आकर्षित करने वाले राजस्थान के महत्वपूर्ण मेलों व उत्सवों के बारे में बोलते हुए सीएम गहलोत ने कहा कि मेले एवं उत्सव हमारी सांस्कृतिक धरोहर हैं. इनसे ज्यादा से ज्यादा देशी एवं विदेशी पर्यटक जुड़ सकें इसके लिए इन्हें नया रूप दिया जाए तथा पुष्कर मेला (Pushkar Fair), डेजर्ट फेस्टिवल (Desert Festival of Rajasthan), कुंभलगढ़ (Kumbhalgarh Utsav) तथा बूंदी उत्सव (Bundi Utsav) सहित विभिन्न मेलों की नए सिरे से ब्रांडिंग की जाए.

Source link

About editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*